विद्युत मोटर की उपयोगिता और वर्गीकरण

विद्युत मोटर (electric motor) एक विद्युतयांत्रिक मशीन है जो विद्युत ऊर्जा को यांत्रिक ऊर्जा में बदलती है; अर्थात इसे उपयुक्त विद्युत स्रोत से जोड़ने पर यह घूमने लगती है जिससे…

Read more »

बड़ा इमामबाड़ा का निर्माण

बड़ा इमामबाड़ा लखनऊ की एक ऐतिहासिक धरोहर है इसे भूल भुलैया भी कहते हैं इसको अवध के नवाब आसफ उद दौरानी 1784 ने बनवाया था इसे आसिफी इमामबाड़ा के नाम…

Read more »

स्कन्दगुप्त की शासन नीति

स्कन्दगुप्त प्राचीन भारत में तीसरी से पाँचवीं सदी तक शासन करने वाले गुप्त राजवंश के आठवें राजा थे। इनकी राजधानी पाटलिपुत्र थी जो वर्तमान समय में पटना के रूप में…

Read more »

गेहूं के ब्लास्ट रोग की रोकथाम

ब्राजील से शुरू होकर गेहूं का ब्लास्ट रोग लगभग पूरे विश्व में फैल चुका है। इसमें गेहूं की बालियां दाने पड़ने से पहले ही सूख जाती हैं और उपज में…

Read more »

गंगोत्री राष्ट्रीय उद्यान का पर्यटन भूगोल

गंगोत्री राष्ट्रीय उद्यान उत्तरकाशी, उत्तराखंड, भारत में स्थित एक राष्ट्रीय उद्यान है। इस राष्ट्रीय उद्यान का क्षेत्रफल 1553 वर्ग कि॰मी॰ है। यह उद्यान शंकुधारी वनों की सुन्दरता और हिमनदों की…

Read more »

प्रकाश संश्लेषण की रासायनिक समीकरण

सजीव कोशिकाओं के द्वारा प्रकाशीय उर्जा को रासायनिक ऊर्जा में परिवर्तित करने की क्रिया को प्रकाश संश्लेषण (फोटोसिन्थेसिस) कहते है। प्रकाश संश्लेषण वह क्रिया है जिसमें पौधे अपने हरे रंग…

Read more »

चारमीनार की संरचना और वाणिज्य क्षेत्र

चारमीनार (“चार मीनार”), 1591 में निर्मित, भारत के हैदराबाद, तेलंगाना में स्थित एक स्मारक और मस्जिद है। यह विश्व स्तर पर हैदराबाद के प्रतीक के रूप में जाना जाता है…

Read more »

गुप्त राजवंश की उत्पत्ति

गुप्त राजवंश प्राचीन भारत के प्रमुख राजवंशों में से एक था। मौर्य वंश के पतन के बाद दीर्घकाल में हर्ष तक भारत में राजनीतिक एकता स्थापित नहीं रही। कुषाण एवं…

Read more »

मक्के में लगने वाले कीट व रोगों तथा उपचार

मक्का खरीफ ऋतु की फसल है, परन्तु जहां सिचाई के साधन हैं वहां रबी और खरीफ की अगेती फसल के रूप मे ली जा सकती है। मक्का कार्बोहाइड्रेट का बहुत…

Read more »

बन्नेरुघट्टा जैव उद्यान

बंगलुरु स्थित बानेरघाट राष्ट्रीय उद्यान जंगली बिल्लियों, भारतीय तेंदुओं, बाघ, चीतों और हाथियों को नैसर्गिक रूप से साक्षात देखने के लिए बेंगलोर से 20 किलो मीटर दक्षिण में बानेरघाट राष्ट्रीय…

Read more »
Don`t copy text!