एण्ड्रोमेडा गैलेक्सी, जानिए आप भी

एंड्रोमेडा आकाशगंगा या‌ देवयानी आकाशगंगा एंड्रोमेडा तारामंडल (देवयानी तारामंडल) में स्थित, पृथ्वी से 2,500,000 प्रकाश वर्ष (1.6×1011 खगोलीय इकाई) दूर मौजूद एक महान तारापुंज है, जो साफ आसमान में नग्न आंखों से देखा जा सकता है। यह मैसीयर 31, एम31 या एनजीसी 224 कहलाता है और अक्सर ग्रंथों में इसका संदर्भ महान एंड्रोमेडा निहारिका के रूप में दिया जाता है। एंड्रोमेडा सर्पिलाकार तारा पुंज, हमारी सबसे निकटतम आकाशगंगा है लेकिन औसत सिरों की दूरी को कुल मिलाकर यह सबसे निकटतम नहीं है। इसे अमावस की रात को धब्बे के रूप में देखा जा सकता है और दूरबीन से शहरी क्षेत्रों में भी देखा जा सकता है। इसके नाम को उस आकाश क्षेत्र से लिया गया है जहां यह प्रकट होता है, एंड्रोमेडा तारामंडल (जिसे हिन्दी में देवयानी तारामंडल कहते हैं) और जिसका नाम पौराणिक राजकुमारी एंड्रोमेडा के नाम पर रखा गया है। एंड्रोमेडा स्थानीय समूह का सबसे बड़ा तारापुंज है जिसमें एंड्रोमेंडा आकाशगंगा, मिल्की वे आकाशगंगा, ट्रियांगुलम आकाशगंगा और ३० अन्य छोटी आकाशगंगाऐं शामिल हैं। हालांकि, इनमें सबसे बड़ा, एंड्रोमेडा, बहुत विशालकाय नहीं है, क्योंकि हाल ही खोजों से पता चला है कि आकाशगंगा में बहुत से ऐसे मामले हैं जिनके उससे भी विशालकाय स्वरूप हो सकते हैं। स्पित्ज़र स्पेस टेलीस्कोप द्वारा 2006 में देखने पर यह पता लगा है कि M31 में करोड़ों (1012) तारे शामिल हैं जिनकी संख्या हमारी आकाशगंगा, मिल्की वे, जिनकी संख्या लगभग c. 200-400 अरब है, से कहीं अधिक है।.
जबकि 2006 में, एंड्रोमेडा की तुलना में मिल्की वे के ग्रहों का अनुमान ~80% लगाया, जो लगभग 7.1×1011 सौर ग्रहों के बराबर है, 2009 के एक अध्ययन से पता लगा है कि एंड्रोमेडा और मिल्की वे का घनत्व लगभग समान है।
3.4 के एंड्रोमेडा आकाशगंगा के स्पष्ट परिमाण पर यह एक सबसे चमकीला मैसीयर ग्रह[13] बन जाता है जिसे नग्न आंखों से भी बड़ी आसानी के साथ देखा जा सकता है, भले ही उसे मध्यम प्रकाश प्रदूषण वाले क्षेत्रों से ही क्यों न देखा जाए. हालांकि जब इसका चित्र एक बडी दूरबीन द्वारा लिया जाता है, तब यह पूर्ण चंद्रमा की तुलना में छ: गुना अधिक क्षेत्र घेरे हुए दिखाई पड़ता है, तब नग्न आंखों या छोटी दूरबीन से केवल इसके चमकीले भाग को ही देखा जा सकता है।

Leave a Comment