कोणीय विभेदन और मानव नेत्र की विभेदन क्षमता

प्रतिविम्ब निर्माण करने वाली किसी युक्ति द्वारा किसी वस्तु की छोटी-छोटी संसरचनाओं को भी अलग-अलग कर पाने की क्षमता को कोणीय विभेदन (Angular resolution) या ‘आकाशीय विभेदन’ (स्पेशियल रिजोलूशन) कहते हैं। प्रकाशीय दूरदर्शी, रेडियो दूरदर्शी, सूक्ष्मदर्शी, कैमरा, आँख आदि के लिए यह महत्वपूर्ण है। वास्तव में कोणीय विभेदन से ही मुख्यतः निर्धारित होता है कि छबि-विभेदन कितना होगा।

मानव नेत्र की विभेदन क्षमता
मानव नेत्र की विभेदन क्षमता लगभग 1 मिनट (=0.17 डिग्री) है। इसका अर्थ है कि धरती से देखता हुआ मानव नेत्र चन्द्रमा पर लगभग 100 किमी दूरी पर स्थित वस्तुओं को अलग-अलग करके देख सकता है। या 3 मीटर दूरी पर रखी वस्तु के उपर स्थित 1 मिमी अन्तराल पर स्थित दो बिन्दुओं को अलग-अलग (एक ही बिन्दु नहीं) समझ सकती है।

Leave a Comment