राष्ट्रीय चुनावों की सूची

राज्य सभा चुनाव (मतदाता → विधान सभा एवं नामांकन → राज्य सभा) राज्य सभा के सदस्यों का चयन अप्रत्यक्ष रूप से होता है और ये लगभग पूरी तरह से अलग-अलग…

Read more »

मतदान का इतिहास और महत्व

मतदान (Voting) निर्णय लेने या अपना विचार प्रकट करने की एक विधि है जिसके द्वारा कोई समूह (जैसे कोई निर्वाचन क्षेत्र या किसी मिलन में इकट्ठे लोग) विचार-विनिमय तथा बहस…

Read more »

दक्षिण अफ्रीकी गणतंत्र का इतिहास

दक्षिण अफ्रीकी गणतंत्र (South African Republic ; Dutch: Zuid-Afrikaansche Republiek, ZAR), दक्षिणी अफ्रीका में सन 1852 से 1902 तक एक स्वतन्त्र और अन्तरराष्ट्रीय समुदाय द्वारा मान्य देश था। इसे ट्रैंसवाल…

Read more »

सार्वजनिक वितरण प्रणाली

सार्वजनिक वितरण प्रणाली (पीडीएस) एक भारतीय खाद्य सुरक्षा प्रणाली है। भारत में उपभोक्ता मामले, खाद्य और सार्वजनिक वितरण मंत्रालय के अधीन तथा भारत सरकार द्वारा स्थापित और राज्य सरकारों के…

Read more »

पंचायती राज में संवैधानिक प्रावधान

पंचायती राज व्यवस्था में ग्राम, तालुका और जिला आते हैं। भारत में प्राचीन काल से ही पंचायती राज व्यवस्था आस्तित्व में रही हैं। आधुनिक भारत में प्रथम बार तत्कालीन प्रधानमंत्री…

Read more »

राज्य सभा की विशेष शक्तियाँ

एक परिसंघीय सदन होने के नाते राज्य सभा को संविधान के अधीन कुछ विशेष शक्तियाँ प्राप्त हैं। राज्यसभा के पास तीन विशेष शक्तियाँ होती है अनु. 249 के अंतर्गत राज्य…

Read more »

भूमि अधिग्रहण अधिनियम, 1894

भूमि अधिग्रहण अधिनियम, 1894 (The Land Acquisition Act of 1894) भारत और पाकिस्तान दोनों का एक कानून है जिसका उपयोग करके सरकारें निजी भूमि का अधिग्रहण कर सकतीं हैं। इसके…

Read more »

संसदीय कार्यक्रम और प्रक्रिया और संसद में जनहित के मामले

संसदीय कार्य दो मुख्य शीर्षों में बांटा जा सकता है। सरकारी कार्य और गैर-सरकारी कार्य। सरकारी कार्य को फिर दो श्रेणियों में बांटा जा सकता है, (क) ऐसे कार्य जिनकी…

Read more »

विधायिका संबंधी कार्यवाही

प्रक्रियाबिल/विधेयक कुल 4 प्रकार होते है सामान्य बिल इसकी 6 विशेषताएँ है 1.परिभाषित हो 2.राष्ट्रपति की अनुमति हो 3.बिल कहाँ प्रस्तावित हो 4.सदन की विशेष शक्तियॉ मे आता हो 5.कितना…

Read more »

लोक सभा का कार्यकाल और विशेष शक्तियाँ

यदि समय से पहले भंग ना किया जाये तो, लोक सभा का कार्यकाल अपनी पहली बैठक से लेकर अगले पाँच वर्ष तक होता है उसके बाद यह स्वत: भंग हो…

Read more »
Don`t copy text!