वनों का वितरण, वर्गीकरण, प्रबंधन और महत्व

एक क्षेत्र जहाँ वृक्षों का घनत्व अत्यधिक रहता है उसे वन कहते हैं। जंगल की कई परिभाषाएँ हैं, जो कि विभिन्न मापदंडों पर आधारित हैं। वनों ने पृथ्वी के लगभग…

Read more »

एशिया के प्रमुख रेगिस्तानों का सचित्र विस्तारपूर्वक वर्णन

एशिया के प्रमुख रेगिस्तान गोबी मरुस्थल गोबी मरुस्थल, चीन और मंगोलिया में स्थित है। यह विश्व के सबसे बड़े मरुस्थलों में से एक है। गोबी दुनिया के ठंडे रेगिस्तानों में…

Read more »

तापमान और विभिन्न पैमाने

तापमान किसी वस्तु की उष्णता की माप है। अर्थात्, तापमान से यह पता चलता है कि कोई वस्तु ठंढी है या गर्म। उदाहरणार्थ, यदि किसी एक वस्तु का तापमान 20…

Read more »

मिट्टी की संरचना, रंग, गठन और विभिन्न प्रकार

पृथ्वी ऊपरी सतह पर मोटे, मध्यम और बारीक कार्बनिक तथा अकार्बनिक मिश्रित कणों को मृदा (मिट्टी / soil) कहते हैं। ऊपरी सतह पर से मिट्टी हटाने पर प्राय: चट्टान (शैल)…

Read more »

पृथ्वी का वायुमंडल, इसकी परतें और इसमें घटित होने वाली प्रमुख घटनाएँ

पृथ्वी को घेरती हुई जितने स्थान में वायु रहती है उसे वायुमंडल कहते हैं। वायुमंडल के अतिरिक्त पृथ्वी का स्थलमंडल ठोस पदार्थों से बना और जलमंडल जल से बने हैं।…

Read more »

शैल की परिभाषा, प्रकार, बेसाल्ट, ग्रेनाइट और सॅडिमॅन्टरी शैल

पृथ्वी की ऊपरी परत या भू-पटल (क्रस्ट) में मिलने वाले पदार्थ चाहे वे ग्रेनाइट तथा बालुका पत्थर की भांति कठोर प्रकृति के हो या चाक या रेत की भांति कोमल;…

Read more »

विश्व के प्रमुख ज्वालामुखी और उनके प्रकार

ज्वालामुखी पृथ्वी की सतह पर उपस्थित ऐसी दरार या मुख होता है जिससे पृथ्वी के भीतर का गर्म लावा, गैस, राख आदि बाहर आते हैं। वस्तुतः यह पृथ्वी की ऊपरी…

Read more »

चक्रवात और उसके विभिन्न प्रकार

चक्रवात (साइक्लोन) घूमती हुई वायुराशि का नाम है। उत्पत्ति के क्षेत्र के आधार पर चक्रवात के दो भेद हैं : (1) उष्ण कटिबंधीय चक्रवात या वलकियक चक्रवात (Tropical cyclone), तथा…

Read more »

दुनिया के सबसे ऊंचे पर्वत शिखर और उनकी सूची

पृथ्वी पर कम-से-कम 109 पर्वत हैं जिनकि ऊँचाई समुद्रतल से 7,200 मीटर (23,622 फ़ुट) से अधिक है। इनमें से अधिकांश भारतीय उपमहाद्वीप और तिब्बत की सीमा पर स्थित हैं, और…

Read more »

पठारों की उत्पत्ति के कारक, भारत और विश्व के प्रमुख पठार

भूमि पर मिलने वाले द्वितीय श्रेणी के स्थल रुपों में पठार अत्यधिक महत्वपूर्ण हैं और सम्पूर्ण धरातल के 33% भाग पर इनका विस्तार पाया जाता हैं।अथवा धरातल का विशिष्ट स्थल…

Read more »
Don`t copy text!