हिंदी साहित्य के प्रमुख लेखक और रचनाएँ

हिन्दी भारत और विश्व में सर्वाधिक बोली जाने वाली भाषाओं में से एक है। उसकी जड़ें प्राचीन भारत की संस्कृत भाषा में तलाशी जा सकती हैं। परंतु हिन्दी साहित्य की…

Read more »

जयशंकर प्रसाद का जीवन परिचय और प्रमुख कृतियां

जयशंकर प्रसाद (30 जनवरी 1889 – 15 नवम्बर 1937), हिन्दी कवि, नाटककार उपन्यासकार तथा निबन्धकार थे। वे हिन्दी के छायावादी युग के चार प्रमुख स्तम्भों में से एक हैं। उन्होंने…

Read more »

मुंशी प्रेमचंद का जीवन परिचय एवं उनकी रचनाओं का विस्तारपूर्वक वर्णन

प्रेमचंद (31 जुलाई 1880 – 8 अक्टूबर 1936) हिन्दी और उर्दू के भारतीय लेखकों में से एक थे । मूल नाम धनपत राय श्रीवास्तव, प्रेमचंद को नवाब राय और मुंशी…

Read more »

सुमित्रानन्दन पन्त का जीवन परिचय

सुमित्रानन्दन पन्त सुमित्रानंदन पंत (20 मई 1900 – 28 दिसम्बर 1977) हिंदी साहित्य में छायावादी युग के चार प्रमुख स्तंभों में से एक हैं। इस युग को जयशंकर प्रसाद, महादेवी…

Read more »

वर्ण विचार

हिंदी व्याकरण, हिंदी भाषा को शुद्ध रूप में लिखने और बोलने संबंधी नियमों का बोध करानेवाला शास्त्र है। यह हिंदी भाषा के अध्ययन का महत्त्वपूर्ण हिस्सा है। इसमें हिंदी के…

Read more »

जातिवाचक संज्ञा से भाववाचक संज्ञा बनाना

संज्ञा किसी जाति, द्रव्य, गुण, भाव, व्यक्ति, स्थान और क्रिया आदि के नाम को ‘संज्ञा’कहते हैं। जैसे पशु (जाति), सुंदरता (गुण), व्यथा (भाव), मोहन (व्यक्ति), दिल्ली (स्थान), मारना (क्रिया)। संज्ञा…

Read more »

मुहावरों का परिचय, परिभाषा एवं निर्माण व उदाहरण

मुहावरा मूलत: अरबी भाषा का शब्द है जिसका अर्थ है बातचीत करना या उत्तर देना। कुछ लोग मुहावरे को ‘रोज़मर्रा’, ‘बोलचाल’, ‘तर्ज़ेकलाम’, या ‘इस्तलाह’ कहते हैं, किन्तु इनमें से कोई…

Read more »

विशेषण की परिभाषा तथा उनके प्रकार

विशेषण- संज्ञा या सर्वनाम की विशेषता बताने वाले शब्द को विशेषण कहते हैं। यथा—- अच्छा लड़का, तीन पुस्तकें, नई कलम इत्यादि। इनमे अच्छा, तीन और नई शब्द विशेषण है जो…

Read more »

छंद, दोहा, सोरठा, चौपाई इत्यादि

संस्कृत वाङ्मय में सामान्यतः लय को बताने के लिये छन्द शब्द का प्रयोग किया गया है। विशिष्ट अर्थों या गीत में वर्णों की संख्या और स्थान से सम्बंधित नियमों को…

Read more »

हिंदी व्याकरण वाक्य विचार, काल, पदबंध और छंद विचार

वाक्य विचार वाक्य विचार हिंदी व्याकरण का तीसरा खंड है जिसमें वाक्य की परिभाषा, भेद-उपभेद, संरचना आदि से संबंधित नियमों पर विचार किया जाता है। दो या दो से अधिक…

Read more »
Don`t copy text!