विशेषण की परिभाषा तथा उनके प्रकार

विशेषण- संज्ञा या सर्वनाम की विशेषता बताने वाले शब्द को विशेषण कहते हैं। यथा—- अच्छा लड़का, तीन पुस्तकें, नई कलम इत्यादि। इनमे अच्छा, तीन और नई शब्द विशेषण है जो…

Read more »

हिन्दी में सामान्य गलतियाँ

सामान्य जीवन में, कम्प्यूटर, इण्टरनेट तथा चिट्ठों पर हिन्दी में वर्तनी सम्बंधी अनेक गलतियाँ देखी जाती हैं। अशुद्ध वर्तनी भाषा की सुन्दरता को खराब करती है। इसलिये इस लेख में…

Read more »
Doha, Kavitta, Rolla, Harigitika, Kundalis,

दोहा, कवित्त, रोला, हरगीतिका और कुण्डलिया

दोहा दोहा अर्द्धसम मात्रिक छंद है। यह दो पंक्ति का होता है इसमें चार चरण माने जाते हैं | इसके विषम चरणों (प्रथम तथा तृतीय) में १३-१३ मात्राएँ और सम…

Read more »

विभक्ति, कहावत और मुहावरे

विभक्ति विभक्ति का शाब्दिक अर्थ है – ‘ विभक्त होने की क्रिया या भाव’ या ‘विभाग’ या ‘बाँट’। व्याकरण में शब्द (संज्ञा, सर्वनाम तथा विशेषण) के आगे लगा हुआ वह…

Read more »

हिंदी साहित्य के प्रमुख लेखक और रचनाएँ

हिन्दी भारत और विश्व में सर्वाधिक बोली जाने वाली भाषाओं में से एक है। उसकी जड़ें प्राचीन भारत की संस्कृत भाषा में तलाशी जा सकती हैं। परंतु हिन्दी साहित्य की…

Read more »

रस और रस के प्रकारों का विस्तारपूर्वक वर्णन

श्रव्य काव्य के पठन अथवा श्रवण एवं दृश्य काव्य के दर्शन तथा श्रवण में जो अलौकिक आनन्द प्राप्त होता है, वही काव्य में रस कहलाता है। रस के जिस भाव…

Read more »

डॉ॰ अशोक चक्रधर का जीवन परिचय

अशोक चक्रधर डॉ॰ अशोक चक्रधर (जन्म 8 फ़रवरी सन् 1951) हिंदी के विद्वान, कवि एवं लेखक है।हास्य-व्यंग्य के क्षेत्र में अपनी विशिष्ट प्रतिभा के कारण प्रसिद्ध वे कविता की वाचिक…

Read more »

रहीम का जीवन परिचय

रहीम अब्दुल रहीम ख़ान-ए-ख़ानाँ या सिर्फ रहीम, एक मध्यकालीन कवि, सेनापति, प्रशासक, आश्रयदाता, दानवीर, कूटनीतिज्ञ, बहुभाषाविद, कलाप्रेमी, एवं विद्वान थे। वे भारतीय सामासिक संस्कृति के अनन्य आराधक तथा सभी संप्रदायों…

Read more »

वाल्मीकि का जीवन परिचय

वाल्मीकि वाल्मीकि प्राचीन भारतीय भगवान हैं। ये आदिकवि के रूप में प्रसिद्ध हैं। उन्होने संस्कृत में रामायण की रचना की। उनके द्वारा रची रामायण वाल्मीकि रामायण कहलाई। रामायण एक महाकाव्य…

Read more »

सुमित्रानन्दन पन्त का जीवन परिचय

सुमित्रानन्दन पन्त सुमित्रानंदन पंत (20 मई 1900 – 28 दिसम्बर 1977) हिंदी साहित्य में छायावादी युग के चार प्रमुख स्तंभों में से एक हैं। इस युग को जयशंकर प्रसाद, महादेवी…

Read more »
Don`t copy text!