बादलों का वगीर्करण

वायुमण्डल में मौज़ूद जलवाष्प के संघनन से बने जलकणों या हिमकणों की दृश्यमान राशि बादल कहलाती है। मौसम विज्ञान में बादल को उस जल अथवा अन्य रासायनिक तत्वों के मिश्रित द्रव्यमान के रूप में परिभाषित किया जाता है जो द्रव रूप में बूंदों अथवा ठोस रवों के रूप में किसी ब्रह्माण्डीय पिण्ड के वायुमण्डल में दृश्यमान हो। बादल वर्षण (वर्षा और हिमपात इत्यादि) का प्रमुख स्रोत होते हैं।
बादलों का विधिवत वैज्ञानिक अध्ययन मौसम विज्ञान की बादल भौतिकी नामक शाखा में किया जाता है।
बादलों का वगीर्करण
उच्च बादल
16,500 फीट (5, 000 मीटर) से ऊँचे।
पक्षाभ बादल |
पक्षाभ स्तरी बादल |
पक्षाभ कपासी बादल |
मध्यम ऊँचाई के बादल
6,500 से 16,500 फीट (2,000 से 5,000 मीटर) से ऊँचे |
उच्च स्तरी बादल
उच्च कपासी बादल
निम्न बादल
6,500 फीट (2,000 मीटर) तक ऊँचे|
स्तरी कपासी बादल
स्तरी बादल
वर्षा स्तरी बादल
कपासी बादल
ऊर्ध्वाधर रचना वाले स्तम्भाकार बादल
ये वायुमण्डल में निचले स्तर से लेकर ट्रोपोपॉज़ तक आकार धारण करते हैं।
कपासी वर्षी बादल

Leave a Comment