मूत्रतंत्र की जन्मजात असंगतियाँ

मनुष्यों में जन्म के समय मूत्रजनन तंत्र में असंगतियाँ विद्यमान होती हैं। स्पाइना बिफिडा ओकल्टा (spina bifida occulta) को छोड़कर शरीर की विकासात्मक त्रुटियाँ 35% से 40% तक मूत्रजनन अंगों में ही होती है।
वृक्क में जन्मजात असंगतियाँ सात प्रकार की हो सकती है:
(1) संख्या में असंगति, एक ही अथवा दो से अधिक वृक्क,
(2) आयतन तथा संरचना की असंगति, जैसे पुटी रोग (cystic disease), अववृद्धि (hypoplasia), अतिवृद्धि (hypertrophy) आदि,
(3) आकार की असंगति, जैसे छोटा, बड़ा या नाल आकार (horse shoe) का वृक्क या एल (L) आकार का वृक्क,
(4) स्थिति की असंगति, जैसे अस्थानी (ectopic) वृक्क, जंगम वृक्क (movable kidney) आदि,
(5) परिभ्रमण (rotation) की असंगति, जैसे कम या अधिक परिभ्रमण,
(6) श्रोणी (pelvis) की असंगति जैसे द्विश्रोणि (double pelvis) आदि, तथा
(7) रुधिर वाहिकाओं की असंगति, जो धमनी या शिरा की हो सकती है।
मूत्रवाहिनी की असंगतियाँ संख्या, उद्भव, सांत आकार, तथा संरचना में हो सकती हैं। उदाहरण के लिये क्रमश: एक ही ओर दो मूत्रवाहिनी, अस्थानी, युरीटरीसील (ureterocele), जन्मजात संकोच (stricture) और जन्मजात विनाल (diverticula) आदि असंगतियाँ होती हैं।
मूत्राशय की उल्लेखनीय जन्मजात असंगतियाँ विनाल, यूरेकस पुटी (urachus cyst), यूरेकस फिस्टुला (fistula) और मूत्राशय त्रिकोण पुट (trigonal folds) हैं। मूत्रमार्ग की असंगति में जन्मजात कपाटिकाएँ, जन्मजात मूत्रमार्ग संकोच आदि होते हैं।
मूत्र की रुकावट
90% से 95% मूत्ररोग के अवरोधन अथवा संक्रमण के कारण होते हैं। बच्चों में अवरोघन प्राय: जन्मजात तथा प्रौढ़ पुरुषों में प्रॉस्टेट ग्रंथि के कारण होता है। अश्मरी (calculi) मूत्रमार्ग संकोच तथा नाना प्रकार के और भी कारण होते हैं, पर जहाँ कहीं भी रुकावट होती है उसके पीछे के मूत्रतंत्र में सर्वदा क्रमश: विस्तारण (dilatation) फिर संक्रमण और अश्मरी निर्माण तथा कभी-कभी अर्बुद भी बन जाते हैं। रुकावट जितनी ही श्रोणि-मूत्र वाहिनी संगम के समीप होगी उतने ही श्घ्रीा हाइड्रोन्फ्रोसिसि (hydronephrosis) हो जायगा। मूत्र रुकावट की चिकित्सा के सिद्धांत ये हैं :
(1) प्रतिधारण (retention) से तुरंत छुटकारा कराना और तरल पदार्थ देना,
(2) सही निदान करना,
(3) वृक्क की सही अवस्था का पता लगाना तथा उसकी कार्यशक्ति को बढ़ाने क प्रयत्न करना और (4) अवरोध को हटाना।

Leave a Comment