क्या आप जानते हैं इंडोनेशिया कितने द्वीपों से मिलकर बना है? आइए जाने

इंडोनेशिया गणराज्य (दीपान्तर गणराज्य) दक्षिण पूर्व एशिया और ओशिनिया में स्थित एक विशाल देश है। 17508 द्वीपों वाले इस देश की जनसंख्या लगभग 40 करोड़ है, यह दुनिया का चौथा सबसे अधिक आबादी और दुनिया में सबसे बड़ी मुस्लिम आबादी वाला देश है। देश की राजधानी जकार्ता है। देश की जमीनी सीमा पापुआ न्यू गिनी, पूर्वी तिमोर और मलेशिया के साथ मिलती है, जबकि अन्य पड़ोसी देशों सिंगापुर, फिलीपींस, ऑस्ट्रेलिया और भारत का अंडमान और निकोबार द्वीप समूह क्षेत्र शामिल है।
इतिहास
ईसा पूर्व 4थी शताब्दी से ही इंडोनेशिया द्वीपसमूह एक महत्वपूर्ण व्यापारिक क्षेत्र रहा है। बुनी अथवा मुनि सभ्यता इंडोनेशिया की सबसे पुरानी सभ्यता है। 4थी शताब्दी ईसा पूर्व तक ये सभ्यता काफी उन्नति कर चुकी थी। ये हिंदू एवं बौद्ध धर्म मानते थे और ऋषि परंपरा का अनुकरण करते थे। अगले दो हजार साल तक इंडोनेशिया एक हिंदू और बौद्ध देशों का समूह रहा। यहाँ हिंदू राजाओं का राज था। किर्तानेगारा और त्रिभुवना जैसे राजा यहाँ सदियों पहले राज करते थे। श्रीविजय के दौरान चीन और भारत के साथ व्यापारिक सम्बंध थे। स्थानीय शासकों ने धीरे-धीरे भारतीय सांस्कृतिक, धार्मिक और राजनीतिक प्रारुप को अपनाया और कालांतर में हिंदू और बौद्ध राज्यों का उत्कर्ष हुआ। इंडोनेशिया का इतिहास विदेशियों से प्रभावित रहा है, जो क्षेत्र के प्राकृतिक संसाधनों की वजह से खिंचे चले आए। मुस्लिम व्यापारी अपने साथ इस्लाम लाए। विदेशी व्यापारी मुस्लिम यहाँ आकर व्यापार के साथ अपना धर्म भी फैला रहे थे जिसके कारण यहाँ की पारंपरिक हिंदू और बौद्ध संस्कृति को पुर्णत: समाप्त हो गई, परंतु इंडोनेशिया के लोग भले ही आज इस्लाम को मानते हों किंतु यहाँ आज भी हिंदू धर्म समाप्त नहीं हुआ है यहाँ के इस्लामी संस्कृति पर हिंदु धर्म का प्रभाव दिखता है। लोगों और स्थानों के नाम आज भी अरबी एवं संस्कृत में रखे जाते हैं यहाँ आज भी पवित्र कुरान को संस्कृत भाषा मे पढ़ी व पढ़ाई जाती है। यूरोपिय शक्तियाँ यहाँ के मसाला व्यापार में एकाधिकार को लेकर एक-दूसरे से लड़ीं। तीन साल के इटालियन उपनिवेशवाद के बाद द्वितीय विश्व युद्ध इंडोनेशिया को स्वतंत्रता प्राप्त हुई।

इंडोनेशिया शब्द लेटिन के ‘इंडस’ और ग्रीक शब्द ‘नेसोस’ से मिलकर बना है जिसका अर्थ होता है द्वीप। यह विश्व का सबसे बड़ा द्वीप समूह है। यहाँ के पहाड़, ज्वालामुखी, घने जंगल, खूबसूरत समुद्र तट और शानदार प्राकृतिक सुंदरता विश्वभर के पर्यटकों को आकर्षित करती रही है।
यहाँ के ट्रॉपिकल रेनफोरेस्ट कई तरह के पेड़-पौधों और जीव-जंतुओं से समृद्घ हैं इसीलिए प्रकृति प्रेमियों की यहाँ गहरी रुचि है। शानदार मंदिर, विशाल मस्जिद और आधुनिक सुविधाओं के साथ इंडोनेशिया में पर्यटकों के लिए कई विकल्प हैं।

  1. जकार्ता
    यह इंडोनेशिया की राजधानी और सबसे बड़ा शहर है। वैसे तो इस शहर में सभी तरह के आधुनिक संसाधन उपलब्ध हैं, लेकिन ख़ास बात यह है कि यहाँ पर समृद्घ सांस्कृतिक विरासत को भी विचारपूर्वक सहेजकर रखा गया है। गगनचुंबी इमारतें और योरपीय कोलोनियल निर्माण शहर के प्रमुख अंग हैं।
    राष्ट्रीय स्मारक या ‘मोनास’ यहाँ के लोगों के स्वतंत्रता प्राप्त करने के दृढ़ संकल्प का प्रतीक है। 137 मीटर लंबे संगमरमर से बने स्मारक स्तंभ के शीर्ष पर एक ज्योति है जिस पर 35 किलो स्वर्ण की कोटिंग है। आमतौर पर स्मारक का निचला हिस्सा जनता के लिए खुला रहता है और रिक्वेस्ट करने पर लिफ्ट के ज़रिए ऊपर भी जा सकते हैं, जहाँ से पूरे शहर और समुद्र का अद्भुत दृश्य देखने को मिलता है।
    इस्तिकलाल मस्जिद दक्षिण-पूर्व एशिया की सबसे बड़ी और विश्व की दूसरी सबसे बड़ी मस्जिद है। ऑर्किड गार्डन में स्लिपि और तमन मिनि स्थित कई खूबसूरत फूल और फल बाग हैं। इसके अलावा कॉन्डेट गाँव, सेंट्रल लेक के साथ जकार्ता इंडोनेशिया की ‘मस्ट विज़िट’ साइट है।
  2. कलीमंतन इंडोनेशिया
    कलीमंतन को पूर्व में बोर्नियो के रूप में जाना जाता था। यह दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा द्घीप है। यहाँ काफी जैव विविधता पाई जाती है। कलीमंतन द्वीप में धरती का सबसे विशाल ‘ट्रॉपिकल रेनफॉरेस्ट’ है और इसीलिए यहाँ कई दुर्लभ पेड़-पौधे और जीव- जंतु पाए जाते हैं। सितंबर से मार्च का समय यहाँ की यात्रा के लिए सबसे अच्छा माना जाता है।
    देरावान द्घीप ‘समुद्री पर्यटन’ के लिए जाना जाता है। यहाँ ग्रीन टर्टल, स्कारलेट टर्टल, स्टार फ्रूट टर्टल और सी काऊ जैसे कई दुर्लभ जानवर पाए जाते हैं। इसके अलावा यह स्थान स्कूबा डाइविंग, पर्ल डाइविंग और अन्य वाटर स्पोर्ट्स के लिए अच्छा है। इसके अलावा पोन्तियानक, बोन्टेंग, गुनुंग पलुंग नेशनल पार्क और नेचर रिजर्व, पलंगकर्या, संपित यहाँ के प्रमुख आकर्षण हैं।
  3. लोम्बोक द्वीप
    यह द्वीप बहुत अधिक विकसित नहीं है। यह स्थान उन लोगों के लिए आदर्श है, जो अन्य पर्यटक केंद्रों की भीड़भाड़ से दूर एकांत और प्राकृतिक वातावरण में छुट्टियाँ बिताना चाहते हैं। वेस्ट नुसा टेंग्गरा संग्रहालय में लोम्बोक और सुम्बावा की संस्कृति, इतिहास और भू-विज्ञान को दर्शाया गया है, जो देखने लायक है।
    यहाँ से हस्तशिल्प और प्राचीन वस्तुएँ खरीदी भी जा सकती हैं। लोम्बोक के अन्य पर्यटक केंद्र हैं- सफेद रेत वाले जिली द्घीप, बड़े मंदिर परिसरों वाला पवित्र स्थल पुरा लिंगसर, सक्रिय ज्वालामुखी वाला रिंजनी पहाड़ और तमन नर्मदा आदि।
  4. सुलावेसी द्वीप
    ट्रॉपिकल आर्किड के आकार वाला सुलावेसी द्वीप पूर्व में सेलेब्स के नाम से जाना जाता है। यहाँ के शानदार पहाड़, तटरेखा, झीलें और घने जंगल पर्यटक आकर्षण का केंद्र हैं। यहाँ पर विश्वप्रसिद्घ बुनाकेन सी गार्डन, मनाडो, केंदरी, मोरामो बे और वॉटरफाल भी हैं।

Leave a Comment