विद्युत आवेश

विद्युत आवेश कुछ उपपरमाणवीय कणों में एक मूल गुण है जो विद्युतचुम्बकत्व का महत्व है। आवेशित पदार्थ को विद्युत क्षेत्र का असर पड़ता है और वह ख़ुद एक विद्युत क्षेत्र का स्रोत हो सकता है।
आवेश पदार्थ का एक गुण है! पदार्थो को आपस में रगड़ दिया जाये तो उनमें परस्पर इलेक्ट्रोनों के आदान प्रदान के फलस्वरूप आकर्षण का गुण आ जाता है
इसकी खोज 600 ई . पूर्व हुई थी इसका श्रेय ग्रीस देश के निवासी थेल्स को जाता है ‘इलेक्ट्रिसिटी’ शब्द भी ग्रीस भाषा के शब्द इलेक्ट्रान से लिया गया है जिसका अर्थ ‘ऐम्बर’ है।
प्रकार
आवेश को ऋणआत्मक तथा धनात्मक को बेंजामिन फ्रेंकलिन ने बताया था
एकसमान प्रकृति की आवेश एक दूसरे को प्रतिकर्षित करते है जबकि विपरीत प्रकृति के आवेश एक दूसरे को आकर्षित करते हैं।

Leave a Comment