गर्मी से निजात पाने के पर्यावरण के अनुकूल तरीके

भरपूर पानी पिएं। बोतलबन्द पानी से बचें क्योंकि यह बरबादी को बढ़ावा देता है और प्राकृतिक संसाधनों का क्षरण करता है।
कैफीन युक्त पेयों से बचें. छाछ जैसे प्राकृतिक पेय पिएं।
हल्के रंगों के कपड़े पहनें, जहां तक हो सके सूती कपड़ों का इस्तेमाल करें।
डिहाइड्रेशन से बचने के लिए भरपूर पेय पदार्थ लें। कुछ प्राकृतिक पेय नींबू का रस, कच्चा नारियल, फ़लों के रस आदि हैं. कच्चे नारियल के पानी में विटामिनों एवं खनिजों के साथ शकर, रेशा एवं प्रोटीन होते हैं।
भरपूर मात्रा में सलाद एवं तरबूज़ जैसे फल खाएं– इनमें प्राकृतिक रूप से पानी होता है. वास्तव में इस फ़ल में लगभग 92% पानी होता है और 14% तक विटामिन सी पसीने के ज़रिए कम हो गई नमी की मात्रा की भरपाई में यह मदद करता है। इस फ़ल में छोटी मात्रा में विटामिन बी तथा पोटेशियम भी पाए जाते हैं।
मिट्टी के बर्तनों में भंडारित पानी पिएं।
तेलयुक्त भोजन से बचें और खासतौर से रेहड़ी वालों द्वारा बेचे जा रहे कटे फ़ल खाने से बचें क्योंकि वह मक्खियों एवं धूल के कारण दूषित हुआ हो सकता है।
उपयोग के लिए हाथ का पंखा रखें। यह बिजली की कटौती होने के समय भी काम देता है।
खुली खिड़की पर वेट्टिवेरिआ की बनी हुई चादर लटकाएं। यह घर में ठंडी हवा के प्रसार में मदद करती है।

Leave a Comment