पौधों के लिये आवश्यक पोषक तत्व

मुख्य तत्व
पौधों के लिये तीन प्रमुख पोषक तत्व हैं:
नाइट्रोजन या नत्रजन
फॉस्फोरस
पोटैशियम या पोटाश
द्वितीयक पोषक तत्व
कैल्शियम
गंधक या सल्फर
मैग्नीशियम
सूक्ष्म पोषक तत्व (माइक्रोन्युट्रिएन्ट्स)
बोरॉन
क्लोरीन
मैगनीज
लोहा
जस्ता (जिंक)
ताँबा (कॉपर)
मॉलीब्लेडनम्
सेलेनियम (केवल कुछ देशों में)

सीमाएं
उर्वरक, पौधों के लिये आवश्यक तत्वों की तत्काल पूर्ति के साधन हैं लेकिन इनके प्रयोग के कुछ दुष्परिणाम भी हैं। ये लंबे समय तक मिट्टी में बने नहीं रहते हैं। सिंचाई के बाद जल के साथ ये रसायन जमीन के नीचे भौम जलस्तर तक पहुँचकर उसे दूषित करते हैं। मिट्टी में उपस्थित जीवाणुओं और सुक्ष्मजीवों के लिए भी ये घातक साबित होते हैं। भारत में रासायनिक खाद का सर्वाधिक प्रयोग पंजाब में होता है। वर्तमान समय में वहाँ पानी का जलस्तर एवं मृदा की पोषकता में भारी कमी देखी गई है। इसके साथ ही मृदा तथा उपज में हानीकारक रसायनों की मात्रा में बहुत वृद्दी पाई गई है। इसलिए उर्वरक के विकल्प के रूप में जैविक खाद का प्रयोग तेजी से लोकप्रीय हो रहा है।
प्रमुख रासायनिक उर्वरक
यूरिया
पहचान विधि :

सफेद चमकदार, लगभग समान आकार के गोल दाने।
पानी में पूर्णतया घुल जाना तथा घोल छूने पर शीतल अनुभूति।
गर्म तवे पर रखने से पिघल जाता है और आंच तेज करने पर कोई अवशेष नही बचता।
डाई अमोनियम फास्फेट (डी.ए.पी.)
पहचान विधि :

सख्त, दानेदार, भूरा, काला, बादामी रंग नाखूनों से आसानी से नहीं छूटता।
डी.ए.पी. के कुछ दानों को लेकर तम्बाकू की तरह उसमें चूना मिलाकर मलने पर तीक्ष्ण गन्ध निकलती है, जिसे सूंघना असह्य हो जाता है।
तवे पर धीमी आंच में गर्म करने पर दाने फूल जाते है।
सुपर फास्फेट
पहचान विधि :

यह सख्त दानेदार, भूरा काला बादामी रंगों से युक्त तथा नाखूनों से आसानी से न टूटने वाला उर्वरक है। यह चूर्ण के रूप में भी उपलब्ध होता है। इस दानेदार उर्वरक की मिलावट बहुधा डी.ए.पी. व एन.पी.के. मिक्चर उर्वरकों के साथ की जाने की सम्भावना बनी रहती है।
जिंक सल्फेट
पहचान विधि :

जिंक सल्फेट में मैंग्नीशिम सल्फेट प्रमुख मिलावटी रसायन है। भौतिक रूप से समानता के कारण नकली असली की पहचान कठिन होती है।
डी.ए.पी. के घोल में जिंक सल्फेट के घोल को मिलाने पर थक्केदार घना अवक्षेप बन जाता है। मैग्नीशियम सल्फेट के साथ ऐसा नहीं होता।
जिंक सल्फेट के घोल में पतला कास्टिक का घोल मिलाने पर सफेद, मटमैला मांड़ जैसा अवक्षेप बनता है, जिसमें गाढ़ा कास्टिक का घोल मिलाने पर अवक्षेप पूर्णतया घुल जाता है। यदि जिंक सल्फेट की जगह पर मैंग्नीशिम सल्फेट है तो अवक्षेप नहीं घुलेगा।
पोटाश खाद
पहचान विधि :

सफेद कणाकार, पिसे नमक तथा लाल मिर्च जैसा मिश्रण।
ये कण नम करने पर आपस में चिपकते नहीं।
पानी में घोलने पर खाद का लाल भाग पानी में ऊपर तैरता है।

Leave a Comment