भूमंडलीय ऊष्मीकरण

भूमंडलीय ऊष्मीकरण (या ग्‍लोबल वॉर्मिंग) का अर्थ पृथ्वी की निकटस्‍थ-सतह वायु और महासागर के औसत तापमान में 20वीं शताब्‍दी से हो रही वृद्धि और उसकी अनुमानित निरंतरता है। पृथ्‍वी की सतह के निकट विश्व की वायु के औसत तापमान में 2005 तक 100 वर्षों के दौरान 0.74 ± 0.18 °C (1.33 ± 0.32 °F) की वृद्धि हुई है।जलवायु परिवर्तन पर बैठे अंतर-सरकार पैनल ने निष्कर्ष निकाला है कि “20 वीं शताब्दी के मध्य से संसार के औसत तापमान में जो वृद्धि हुई है उसका मुख्य कारण मनुष्य द्वारा निर्मित ग्रीनहाउस गैसें हैं।
जैसा कि नाम से ही स्पष्ट है, धरती के वातावरण के तापमान में लगातार हो रही विश्वव्यापी बढ़ोतरी को ‘ग्लोबल वार्मिंग’ कहा जा रहा है। हमारी धरती सूर्य की किरणों से उष्मा प्राप्त करती है। ये किरणें वायुमंडल से गुजरती हुईं धरती की सतह से टकराती हैं और फिर वहीं से परावर्तित होकर पुन: लौट जाती हैं। धरती का वायुमंडल कई गैसों से मिलकर बना है जिनमें कुछ ग्रीनहाउस गैसें भी शामिल हैं। इनमें से अधिकांश धरती के ऊपर एक प्रकार से एक प्राकृतिक आवरण बना लेती हैं जो लौटती किरणों के एक हिस्से को रोक लेता है और इस प्रकार धरती के वातावरण को गर्म बनाए रखता है। गौरतलब है कि मनुष्यों, प्राणियों और पौधों के जीवित रहने के लिए कम से कम 16 डिग्री सेल्शियस तापमान आवश्यक होता है। वैज्ञानिकों का मानना है कि ग्रीनहाउस गैसों में बढ़ोतरी होने पर यह आवरण और भी सघन या मोटा होता जाता है। ऐसे में यह आवरण सूर्य की अधिक किरणों को रोकने लगता है और फिर यहीं से शुरू हो जाते हैं ग्लोबल वार्मिंग के दुष्प्रभाव।
आईपीसीसी द्वारा दिये गये जलवायु परिवर्तन के मॉडल इंगित करते हैं कि धरातल का औसत ग्लोबल तापमान 21वीं शताब्दी के दौरान और अधिक बढ़ सकता है। सारे संसार के तापमान में होने वाली इस वृद्धि से समुद्र के स्तर में वृद्धि, चरम मौसम (extreme weather) में वृद्धि तथा वर्षा की मात्रा और रचना में महत्वपूर्ण बदलाव आ सकता है। ग्लोबल वार्मिंग के अन्य प्रभावों में कृषि उपज में परिवर्तन, व्यापार मार्गों में संशोधन, ग्लेशियर का पीछे हटना, प्रजातियों के विलुप्त होने का खतरा आदि शामिल हैं।

शब्दावली

“ग्लोबल वॉर्मिंग” से आशय हाल ही के दशकों में हुई वार्मिंग और इसके निरंतर बने रहने के अनुमान और इसके अप्रत्‍यक्ष रूप से मानव पर पड़ने वाले प्रभाव से है। जलवायु परिवर्तन पर संयुक्त राष्ट्र समझौते की रूपरेखा में “मानव द्वारा किए गए परिवर्तनों के लिए “जलवायु परिवर्तन और अन्‍य परिवर्तनो के लिए “जलवायु परिवर्तनशीलता” शब्‍द का इस्तेमाल किया है। यह शब्द ” जलवायु परिवर्तन ” मानता है कि बढ़ते तापमान ही एकमात्र प्रभाव नहीं हैं यह शब्द ” एन्थ्‍रोपोजेनिक ग्लोबल वॉर्मिंग ” कई बार प्रयोग उस समय प्रयोग किया जाता है जब मानव प्रेरित परिवर्तन पर ध्यान केंद्रित होता है।

कारण

पृथ्वी की जलवायु बाहरी दबाव के (orbital forcing) चलते परिवर्तित होती रहती है जिसमें सूर्य के चारों ओर इसके अपनी कक्षा में होने वाले परिवर्तन भी शामिल हैं। कक्षा पर पड्ने वाले दबाव सौर चमक (solar luminosity), ज्वालामुखी उदगार, तथा वायुमंडलीसय ग्रीनहाउस गैसों के अभिकेंद्रण (greenhouse gas) को भी परिवर्तित करता है। वैज्ञानिक आम सहमति (scientific consensus) होने के बाद भी हाल ही में हुई गर्मी में वृद्धि के विस्तृत कारण (causes of the recent warming) शोध का विषय होते हैं यह है कि मानवीय गतिविधियों के कारण वातावरण की ग्रीनहाउस गैसों में वृद्धि से होने वाली अधिकांश गर्मी को औद्योगिक युग की शुरुआत के बाद से देखा गया। हाल ही के 50 वर्षो को यह श्रेय स्पष्‍ट तौर पर जाता है जिसके लिए आंकडा उपलब्ध हैं। आम सहमति के विचार से अलग कुछ अन्य संकल्पनाओं (hypotheses) का सुझाव अधिकांश तापमान वृद्धि की व्याख्‍या करने के लिए दिया जाता है। ऐसी ही एक परिकल्पना का प्रस्ताव है कि गर्मी अलग अलग रूपों में सौर गातिविधि का परिणाम हो सकती है।
बाध्‍यता का कोई भी प्रभाव तात्कालिक नहीं है। धरती के महासागरों का ताप जड़त्व (thermal inertia) और कई अप्रत्यक्ष प्रभावों की धीमी प्रतिक्रिया का मतलब है धरती का वर्तमान तापमान उसपर डाले गए दबाव के साथ संतुलन में नहीं है जलवायु वचनबद्धता (Climate commitment) के अध्‍ययनों से प्रदर्शित्‍ होता है कि यदि ग्रीनहाउस गैसों को 2000 स्‍तर पर स्थिर कर दिया जाए तो इससे आगे भी कुछ सीमा तक। गर्मी दिखाई देगी |

वायुमंडल में ग्रीनहाउस गैसें

ग्रीनहाउस प्रभाव की खोज 1824 में जोसेफ फोरियर द्वारा की गई थी तथा 1896 में पहली बार स्वेन्‍टी आरहेनेस (Svante Arrhenius) द्वारा इसकी मात्रात्मक जांच की गई थी। यह प्रक्रिया द्वारा जो अवशोषण (absorption) और उत्सर्जन के अवरक्त विकिरण द्वारा वातावरण में गर्म गैसें वातावरण में एक और ग्रह की सतह कम है।

ग्रीनहाउस प्रभाव के रूप में अस्तित्व इस प्रकार विवादित नहीं है। स्वाभाविक रूप से ग्रीन हाउस गैसों के पास होने का मतलब है एक गर्मी के प्रभाव के बारे में 33 डिग्री सेल्सियस (59 °F), जो पृथ्वी पर रहने योग्य नहीं होंगे। .पृथ्वी पर महत्वपूर्ण ग्रीन्हौसे गैसें हैं, जल-वाष्प (water vapor), जो कि 36–70 प्रतिशत तक greenhouse प्रभाव पैदा करता है (बादल इसमे शामिल नही हैं (not including clouds)) ; carbon dioxide (CO2) जो 9-26 प्रतिशत तक greenhouse प्रभाव पैदा करता है; methane (methane) (CH4) 4-9 प्रतिशत तक और ozone, जो 3-7 प्रतिशत तक प्रभाव पैदा करती है I मुद्दा यह है कि मानवीय गतिविधियों से जब कुछ ग्रीनहाउस गैसों की वायुमंडलीय सांद्रता बढ़ती है तब ग्रीनहाउस प्रभाव की शक्ति कैसे परिवर्तित होती है।
औद्योगिक क्रांति के बाद से मानवी गतिविधि में वृद्धि हुई है जिसके कारण ग्रीन हाउस गैसों कि मात्रा में बहुत जियादा वृद्धि हुई है, इसके कारण विकरणशील बाध्य (radiative forcing) CO से2, मीथेन (methane), tropospheric ओजोन, सीएफसी (CFC) और s nitrous भी बहुत बढ़ गए हैं (nitrous oxide)Iअगर अणु (Molecule) कि दृष्टि से देखें तो मीथेन ग्रीनहाउस गैसcarbon dioxide की तुलना में अधिक प्रभावी है, पर उसकी सांद्रता इतनी कम है कि उसका विकरणशील ज़ोर (radiative forcing) कार्बन डाइऑक्‍साइड कि तुलना में केवल एक चौथाई है प्राक़तिक रूप से उत्पन्न होने वाली कुछ दूसरी गैसे ग्रीनहाउस प्रभाव में योगदान देती हैं। इन्‍में से एक नाइट्रस ऑक्साइड (nitrous oxide) (N2O) कृषि जैसी मानवीय गतिविधियों के कारण अपना विकास कर रही है!CO2 और CH4 की वातावरण सांद्रता (atmospheric concentrations) 1700 वीं सदी के मध्‍य में औद्योगिक क्रांति की शुरुआत के बाद से क्रमशः 31% और 149% बढ़ गई है। पिछले 650,000 वर्षों के दौरान किसी भी समय से इन स्तरों को काफी अधिक माना जा रहा है। यह वह अवधि है जिसके लिए विश्वसनीय आंकड़े आइस कोर् (ice core)s. से निकाले गए हैं। कम प्रत्यक्ष भूवैज्ञानिक प्रमाण से यह माना जाता है कि CO2 की इतनी ज्यादा मात्रा पिछली बार 20 करोड़ वर्ष पहले हुई थी। जीवाश्‍म ईंधन (Fossil fuel) के जलने से पिछले 20 वर्षों में मानवीय गतिविधियों से CO2 में हुई बढोतरी में कम से कम एक तिहाई वृद्धि है। शेष कार्य भूमि के उपयोग में परिवर्तन के कारण से होता है विशेषकर वनों की कटाई से ऐसा होता है।

पुननिर्वेशन

जलवायु पर बाध्‍क घटकों के प्रभाव विभिन्न प्रक्रियाओं द्वारा जटिल हो जाते हैं।
सर्वाधिक स्पष्ट प्रत्युत्तरों में से एक का संबंध जल के वाष्पीकरण से है। कार्बन डाई ऑक्साइड जैसी दीर्घकालीन ग्रीनहाउस प्रभाव वाली गैसों के मिलने से पैदा होने वाली गर्मी वायुमंडल में जल के अधिक मात्रा में वाष्‍पीकरण का कारण बनता है। क्यूंकि जल-वाष्प ख़ुद एक ग्रीनहाउस गैस है, इसलिए इससे वातावरण और भी ज्यादा गर्म हो जाता है और इससे और बी ज्यादा पानी वाष्प में बदलता है (क सकारात्मक पुननिर्वेशन (positive feedback)) और यह प्रतिक्रिया चलती रहती है जबतक कि पुननिर्वेशन चक्र पर रोक न लग जाए.अकेले कार्बन डाई आक्साइड से होने वाले इसका प्रभाव बहुत विशाल होगा। यद्यपि प्रत्युत्तर की यह प्रक्रिया वायु की नमी के कणों में बढोतरी करती है, तब भी सापेक्ष आर्द्रता (relative humidity) या तो स्थिर रहती है या थोड़ी सी घट जाती है क्योंकि वायु गर्म हो जाती है। प्रत्युत्तर का यह प्रभाव केवल धीरे धीरे ही उल्टा हो सकता है क्योंकि कार्बन डाई आक्साइड में दीर्घकालीन वायुमंडलीय जीवनावधि (atmospheric lifetime) होती है।

सौर परिवर्तन

कुछ कागजात सुझाव देते हैं कि सूर्य के योगदान का कम आकलन किया गया है। Duke University (Duke University) के दो शोधकर्ताओं, Bruce West और Nicola Scafetta ने यह अनुमान लगाया है कि सूर्य ने 1900-2000 तक शायद 45-50 प्रतिशत तक तापमान बढ़ाने में योगदान दिया है और 1980 और 2000 के बीच में लगभग 25-35 प्रतिशत तक तापमान बढाया है। पीटर स्कॉट और अन्य शोधकर्ताओं द्वारा पता चला है जलवायु मॉडल ग्रीन हाउस गैसों के प्रभाव को जिआदा आंकते हैं और सोलर फोर्सिंग को जिअदा महत्व नहीं देते, वे यह भी सुझाव देते हैं ज्वालामुखी धूल और सुल्फाते एरोसोल्स ओ भी कम आँका गया है फिर भी वे मानते हैं कि सोलर फोर्सिंग होने के बावजूद, जिअदातर वार्मिंग ग्रीन हाउस गैसों के कारण होने की संभावना है, ख़ास कर के 20 वीं सदी के मध्य से लेकर .
एक अनुमान यह है कि अलग अलग अलग रूपों में सौर निर्गम (solar output), जो की बादलों के बंनने से, जो की गालाक्टिक ब्रह्मांडीय किरणों (galactic cosmic ray) द्वारा बनते हैं, ने भी हाल की वार्मिंग में हिस्सेदारी की है। यह भी सुझाव दिया गया है कि सूर्य में जो चुंबकीय गतिविधि है वह भी ब्रह्मांडीय किरणों को प्रवर्तित करती है जिससे बादलों के संघनन नाभिक प्रभावित होते हैं और जलवायु भी प्रभावित होती है।

Leave a Comment