सबसे बड़ा डायनोसॉर आखिर कितना बड़ा था? आप भी जानिए

डायनासोर जिसका अर्थ यूनानी भाषा में बड़ी छिपकली होता है लगभग 16 करोड़ वर्ष तक पृथ्वी के सबसे प्रमुख स्थलीय कशेरुकी जीव थे। यह ट्राइएसिक काल के अंत (लगभग 23 करोड़ वर्ष पहले) से लेकर क्रीटेशियस काल (लगभग 6.5 करोड़ वर्ष पहले), के अंत तक अस्तित्व में रहे, इसके बाद इनमें से ज्यादातर क्रीटेशियस -तृतीयक विलुप्ति घटना के फलस्वरूप विलुप्त हो गये।
जीवाश्म अभिलेख इंगित करते हैं कि पक्षियों का प्रादुर्भाव जुरासिक काल के दौरान थेरोपोड डायनासोर से हुआ था और अधिकतर जीवाश्म विज्ञानी पक्षियों को डायनासोरों के आज तक जीवित वंशज मानते हैं। हिन्दी में डायनासोर शब्द का अनुवाद भीमसरट है जिस का संस्कृत में अर्थ भयानक छिपकली है।
डायनासोर पशुओं के विविध समूह थे। जीवाश्म विज्ञानियों ने डायनासोर के अब तक 500 विभिन्न वंशों और 1000 से अधिक प्रजातियों की पहचान की है और इनके अवशेष पृथ्वी के हर महाद्वीप पर पाये जाते हैं। कुछ डायनासोर शाकाहारी तो कुछ मांसाहारी थे। कुछ द्विपाद तथा कुछ चौपाये थे, जबकि कुछ आवश्यकता अनुसार द्विपाद या चतुर्पाद के रूप में अपने शरीर की मुद्रा को परिवर्तित कर सकते थे। कई प्रजातियां की कंकालीय संरचना विभिन्न संशोधनों के साथ विकसित हुई थी, जिनमे अस्थीय कवच, सींग या कलगी शामिल हैं। हालांकि डायनासोरों को आम तौर पर उनके बड़े आकार के लिए जाना जाता है, लेकिन कुछ डायनासोर प्रजातियों का आकार मानव के बराबर तो कुछ मानव से छोटे थे। डायनासोर के कुछ सबसे प्रमुख समूह अंडे देने के लिए घोंसले का निर्माण करते थे और आधुनिक पक्षियों के समान अण्डज थे।
वैज्ञानिकों को अर्जेंटीना में दुनिया के सबसे बड़े डायनासोर का कंकाल मिला है। इसका वजन 14 अफ्रीकी हाथियों के बराबर है और आकार में यह सात मंजिल की बिल्डिंग के बराबर है।
करीब 77 टन का यह डायनासोर इससे पहले मिले सबसे बड़े डायनासोर से भी कई टन ज्यादा वजनदार है। क्रिटेशस काल के अंतिम दिनों का यह महाकाय कंकाल सबसे पहले एक स्थानीय कर्मचारी ने देखा। इसे पैटागोनिया से करीब 250 किलोमीटर पश्चिम में ला फ्लेचा मरुस्थल के पास पाया गया।
इसके बाद डॉ. जोस लुइस कार्बालिडो और डॉ. डिएगो पोल के नेतृत्व में पैलेंटोलॉजी एजिडियो फेरुग्लिओ संग्रहालय के वैज्ञानिकों ने इन अस्थियों को बाहर निकाला। वैज्ञानिकों ने कहा कि इसका आकार अब तक के किसी भी कंकाल से बड़ा है। इसके सिर से इसकी पूंछ के सिरे तक इसका आकार 40 मीटर है, जबकि इसके सर की ऊंचाई 20 मीटर है। जिन चट्टानों में ये जीवाश्म पाए गए हैं, उस आधार पर कहा जा सकता है कि ये विशालकाय जीव तकरीबन 9.5 से 10 करोड़ साल पहले अस्तित्व में थे। अभी इस डायनासोर को कोई नाम नहीं दिया गया है।
इससे पहले सबसे बड़े डायनासोर का नाम अर्जेंटीनोसॉरस रखा गया था। उसका वजन 70 टन के लगभग था। वैज्ञानिकों के अनुसार, डायनासोर पहली बार करीब 22.8 करोड़ साल पहले ट्रायासिक काल में देखे गए थे। जुरासिक काल उनका स्वर्णिम काल था और करीब 6.5 करोड़ साल पहले क्रिटेशस काल में ये लुप्त हो गए थे। डासनासोर की अब तक 1,000 से ज्यादा प्रजातियों की पहचान की जा चुकी है।

Leave a Comment