भारत का सबसे खतरनाक और बड़ा जंगल, जहां जाने की हिम्मत कोई नहीं करता है

भू क्षेत्र जहाँ वृक्षों का घनत्व सामान्य से अधिक है उसे वन (जंगल) कहते हैं। विभिन्न मापदंडों पर आधारित जंगल की कई परिभाषाएँ हैं । वनों ने पृथ्वी के लगभग 9.5% भाग को घेर रखा है जो कुल भूमिक्षेत्र का लगभग 30% भाग है। एक समय कभी वन कुल भूमिक्षेत्र के 50% भाग में फैल हुए थे। वन, जीव जन्तुओं के लिए आवासस्थल हैं और पृथ्वी के जल-चक्र को नियंत्रित और प्रभावित करते हैं और मृदासंरक्षण का आधार हैं इसी कारण वन पृथ्वी के जैवमण्डल का अहम हिस्सा हैं। वन धरती के सबसे प्रमुख स्थलीय परितंत्र भी हैं। वन, धरती के जीव-मडंल के कुल सकल प्राथमिक उत्पाद के 75% भाग लिए हैं । धरती की 80% वनस्पतियाँ वनों में पाई जाती हैं। अलग अलग ऊंचाइयों पर स्थित वन विभिन्न परितंत्रों का निर्माण करते हैं- जैसे ध्रुवों के निकट बोरील वन, भूमध्य रेखा के निकट उष्ण कटिबन्धीय वन और मध्यम ऊंचाइयों पर शीतोष्ण वन। किसी क्षेत्र की ऊंचाई और वहां मौजूद नमी उस क्षेत्र में पाए जाने वाले वृक्षों पर प्रभाव डालती है। मानव और वन एक दूसरे पर सकारात्मक और नकारात्मक दोनों ही प्रभाव डालते हैं। वन जहाँ मनुष्य को अनेक प्राकृतिक संसाधन उपलब्ध कराते हैं वहीं वे आमदनी का एक स्त्रोत भी हैं।
भारत एक देश जहाँ पूजा जाता हैं पहाड़ों को, नदियों को और वनों को भी, यानि जंगलो को भी। भारत की जलवायु विश्व में सबसे अच्छी कहां जाए तो कुछ गलत नहीं होगा. क्योंकि भारत में हर तरह का मौसम देखा जा सकता है. यहां पर गर्मी है ,सर्दी है,और बरसात का मौसम भी है। यहां पर पेड़ पौधों और खेती करने के लिए उपजाऊ अच्छी भूमि भी मौजूद है।
ऐसे उपजाऊ और अच्छे वातावरण वाले मौसम में जंगल का ना होना, यह असंभव सी बात है. भारतीय पुरानी कथा और किस्से कहानियों में भी हम जंगलों का जिक्र तो सुनते ही हैं. इसलिए आज हम आर्टिकल में यही जानेंगे कि भारत का सबसे बड़ा जंगल कहाँ पर है और कितना बड़ा हैं।
सुंदरवन का जंगल भारत के पश्चिम बंगाल राज्य में हुआ स्थित है, जो कि गंगा नदी के डेल्टा पर स्थित है। जंगल का क्षेत्रफल 1330 km2 है। यह जंगल रॉयल बंगाल टाइगर के लिए प्रसिद्ध है, यहां खारे पानी के मगरमच्छ भी पाए जाते हैं। सुंदरवन का डेल्टा में ही गंगा ब्रह्मपुत्र पद्मा और मेघना नदी जैसी नदियां आकर समुद्र में मिलती हैं।
सुंदरवन का जंगल भारत और बांग्लादेश 2 देशों में पड़ता है. यहां की जमीन बड़ी ही दलदली है और यहां पर दुनिया का सबसे हरा भरा जंगल भी मौजूद है. सुंदरवन को यूनेस्को वर्ल्ड हेरिटेज का दर्जा भी मिल चुका है. यहां पर कुल 4 जगहों को यूनेस्को वर्ल्ड हेरिटेज डे विश्व धरोहर मानते हुए सुरक्षित रखने को कहा है. वैसे तो सुंदरवन का जंगल कुल 10,000 किलो मीटर स्क्वायर के क्षेत्र में फैला हुआ है।
जिसमें से सबसे ज्यादा भाग इस जंगल का बांग्लादेश में स्थित है. जहां पर 6,000 किलो मीटर स्क्वायर से भी ज्यादा बड़ा भाग मौजूद है. यहां भारत में केवल 4,000 किलो मीटर स्क्वायर का क्षेत्र ही है।

Leave a Comment