जून माह के कृषि कार्य

संकर धान
बीज को 12 घंटे तक पानी में भिगोयें तथा पौधशाला में बोआई से पूर्व बीज को कार्बेन्डाजिम (बैविस्टीन) फफूंद नाशी की 2 ग्राम मात्रा प्रतिकिलो बीज में उपचारित कर बोयें |
अरहर
(1) बुआई मेंड़ पर या रेजड बेडमें करने से अधिक पैदावार मिलती है क्योंकि ऐसा करने से जमाव पर असर नहीं पड़ता है और अतिरिक्त जल की निकासी हो जाती है |
(2) उकठा रोग से बचाव के लिए अवरोधी किस्मे लगानी चाहिए | समुचित बीजोपचार कराना चाहिए एवं क्षेत्र प्रभावित खेतों में हर साल अरहर की खेती नहीं करनी चाहिए |
सरगुजा
उन्नत किस्में: झारखंड राज्य के लिए बिरसा नाईजर -1 एवं बिरसा नाईजर-2 उन्नत किस्मों की सिफारिश की जाती है |
हल्दी
फसल प्रणाली: हल्दी के साथ अरहर की खेती से जमीन की उर्वराशक्ति बढ़ने के साथ-साथ दलहन की उपलब्धता भी बढ़ेगी | हल्दी के दो-तीन पंक्ति के बाद एक पंक्ति अरहर की बुआई की जा सकती है |
धान
(1) सीधी बुआई 100 किलोग्राम, छिटकवा विधि 80 किलोग्राम, हल के पीछे लाईन में प्रति हैक्टर | रोपाई: 50 किलोग्राम उन्नत प्रभेद (बड़ा दाना), 40 किलोग्राम उन्नत प्रभेद (मध्यम व छोटा दाना), 15 किलोग्राम संकर धान, एवं 5 किलोग्राम ‘श्री’ विधि में प्रति हैक्टर बीज दर लगता है |
(2) पौधशाला को खरपतवारों से मुक्त रखें | बिचड़ों की लगभग 12-15 दिनों की बढ़वार के बाद पौधशाला में दानेदार कीटनाशी कार्बोफुर्रांन -3 जी, 250 ग्राम प्रति 100 वर्गमीटर की दर से डालें |
आम
आम के लिए जरदालू, बॉम्बे ग्रीन, हिमसागर दशहरी, सफेद मालदह, मल्लिका, आम्रपाली और चौसा इन किस्मों की अनुशंषा की जाती है |
लीची
2-3 टोकरी गोबर की सड़ी हुई खाद (कम्पोस्ट), 2 कि.ग्रा. करंज अथवा नीम की खली 1.0 कि.ग्रा. हड्डी का चूरा अथवा सिंगल सुपर फास्फेट एवं 50 ग्रा. क्लोर पाइरीफास धूल/20 ग्रा. फ्यूराडान/20 ग्रा. थीमेट-10 जि को गड्ढे की ऊपरी सतह की मिट्टी में अच्छी तरह मिलाकर गड्ढा भर देना चाहिए |
पपीता
पपीते की बीजाई के लिए वाशिंग्टन, हनीड्यू, सी. ओ. -1, सी. ओ. -2, सी. ओ. -3 सी. ओ.-4, पूसा मेजस्टी, पूसा जायंट, पूसा ड्रवार्फ पंत पपीता -1, पंत पपीता-2, ये किस्में अनुशंषित की जाती है |
केला
300 ग्राम नाइट्रोजन, 100 ग्राम फासफ़ोरस तथा 300 ग्राम पोटाश प्रति पौधा प्रति वर्ष नाइट्रोजन को पाँच, फासफ़ोरस को दो तथा पोटाश को तीन भागों में बाँट कर देना चाहिए |
अमरुद
अमरुद की सरदार (लखनऊ -49), इलाहाबाद सफेदा तथा अर्का मृदुला यह किस्मों की सिफारिश की जाती है |
आँवला
जिन बागों में प्ररोह पिटिका का प्रकोप लगातार होता रहा है उसमें 0.05 प्रतिशत मोनोक्रोटोफ़ॉस कीटनाशी का छिड़काव मौसम के शुरुआत में करें | यदि आवश्यकता हो तो दूसरा छिड़काव 15 दिनों के बाद करें |
नींबू वर्गीय फल
रोगग्रसित पौधों में 40 किग्रा गोबर की खाद + 4.5 किलो नीम/करंज खली + 150 ग्रा. ट्राइकोडर्मा (मोनीटर) + 1 कि.ग्रा. यूरिया + 800 ग्रा. सिं.सु. फ़ॉ. + 500 ग्रा. म्यूरेट ऑफ़ पोटाश + 1 कि.ग्रा. चूना प्रति वृक्ष के हिसाब से दो भागों में बांटकर दें | यह प्रक्रिया लगातार 2 वर्षो तक अवश्य करें |
काजू
हर साल पौधों को 10-15 कि.ग्रा. गोबर की सड़ी खाद, के साथ-साथ रासायनिक उर्वरकों की भी उपयुक्त मात्रा देनी चाहिए |
अन्य फल
नाशपाती की नेतरहाट लोकल तथा नट पीयर, सतालू की प्रताप, शान-ए-पंजाब एवं प्रभात तथा चीकू की काली पत्ती, पी.के.एम.1, डी.एस.एच.2, क्रिकेट बाल एवं भूरी पत्ती इस क्षेत्र की सफलतम किस्मे लगाये |
पशुपालन
गलाधोंट: 1. पोटाशियम परमैगनेट पानी में मिलाकर दें | 2. पोटाशियम आयोडाइड 1 ग्राम को 300 मि.ली. साफ पानी में मिलाकर त्वचा में इंजेक्शन दें | 3. इंजेक्शन टेट्रासाइक्लिन टेरामाइसिन/ ऑक्सीटेट्रासाइक्लिन 10 मि.ग्रा./किलोग्राम वजन भार की दर से तीन दिन तक दें| 4. इंजेक्शन इंरोफ्लोक्सा सिन 2, 5-5 मि.ग्रा./ किलोग्राम वजन भार की दर से मांस में तीन दिन तक दें | 5. इंजेक्शन सल्फाडिमाडिन 150 मिग्रा./किलोग्राम वजन भार की दर से नस में तीन दिन तक सूई दें | टीकाकरण: मानसून शुरू होने से पहले जून में एलम प्रेस्पिटेट-एच. एस. टीका त्वचा में दे |

Leave a Comment