नंद वंश की उपलब्धियां, आइए जाने

नंदवंश प्राचीन भारत का एक राजवंश था।पुराणों में इसे महापद्मनंद कहा गया है ।
उसे महापद्म एकारात पूराण मे काहागया है, सर्व क्षत्रान्तक आदि उपाधियों से विभूषित किया गया है । जिसने पाँचवीं-चौथी शताब्दी ईसा पूर्व उत्तरी भारत के विशाल भाग पर शासन किया। नंदवंश की स्थापना महापद्मनंद ने की थी। भारतीय इतिहास में पहली बार एक ऐसे साम्राज्य की स्थापना हुई जो कुलीन नहीं था तथा जिसकी सीमाएं गंगा के मैदानों को लांघ गई। यह साम्राज्य वस्तुतः स्वतंत्र राज्यों या सामंतों का शिथिल संघ ना होकर बल्कि किसी शक्तिशाली राजा बल के सम्मुख नतमस्तक होते थे। ये एक एक-रात की छत्रछाया में एक अखंड राजतंत्र था, जिसके पास अपार सैन्यबल, धनबल और जनबल था। चक्रवर्ती सम्राट महापद्मनंद ने निकटवर्ती सभी राजवंशो को जीतकर एक विशाल साम्राज्य की स्थापना की एवं केंद्रीय शासन की व्यवस्था लागू की। इसीलिए सम्राट महापदम नंद को “केंद्रीय शासन पद्धति का जनक” कहा जाता है। महापद्म नन्द के प्रमुख राज्य उत्तराधिकारी हुए हैं- उग्रसेन, पंडूक, पाण्डुगति, भूतपाल, राष्ट्रपाल, योविषाणक, दशसिद्धक, कैवर्त, धनानन्द , चंद्र नंद ( चंद्रगुप्त मौर्य ) । इसके शासन काल में भारत पर आक्रमण सिकन्दर द्वारा किया गया । सिकन्दर के भारत से जाने के बाद मगध साम्राज्य में अशान्ति और अव्यवस्था फैली । धनानन्द एक लालची और धन संग्रही शासक था, जिसे असीम शक्तिल और सम्पत्ति के बावजूद वह जनता के विश्वाास को नहीं जीत सका । उसने एक महान विद्वान ब्राह्मण चाणक्य को अपमानित किया था । चाणक्य ने अपनी कूटनीति से धनानन्द को पराजित कर चन्द्रगुप्त मौर्य को मगध का शासक बनाया । यह स्मरण योग्य बात है कि नंदवंश के राजा अपने उत्तराधिकारियों और भावी पीढ़ियों को दान में क्या दे गए? स्मिथ के शब्दों में कहें तो “उन्होंने 66 परस्पर विरोधी राज्यों को इस बात के लिए विवश किया कि वह आपसी उखाड़-पछाड़ न करें और स्वयं को किसी उच्चतर नियामक सत्ता के हाथों सौंप दे।

नंद वंश की उपलब्धियां

नंद वंश के संस्थापक सम्राट महापदम नंद ने मगध को एक विशाल साम्राज्य में परिणत कर दिया । भारतीय इतिहास में पहली बार एक ऐसे साम्राज्य की स्थापना हुई इसकी सीमाएं गंगा घाटी के मैदानों का अतिक्रमण कर गई। विंध्य पर्वत के दक्षिण में विजय वैजयंती फहराने वाला पहला मगध का शासक महापद्मनंद ही था, खारवेल का हाथीगुंफा अभिलेख से भी कलिंग विजय सूचित होती है। इसके अनुसार नंद राजा जिनसेन की एक प्रतिमा उठा ले ले गए थे तथा उन्होंने कलिंग में तनसुली नहर का भी निर्माण कराया था। मैसूर के 12वीं शती के लेखों में भी नंदो द्वारा कुंतल जीते जाने का विवरण सुरक्षित है क्लासिकल लेखकों के विवरण से पता चलता है की अग्रिम इज का राज्य पश्चिम में व्यास नदी तक फैला था यह भूभाग महापद्मनंद द्वारा ही जीता गया था क्योंकि अगर 20 को किसी भी विजय का श्रेय नहीं प्रदान किया गया है उसकी विजयों के साथ ही क्षत्रियों का राजनीतिक प्रवृत्ति समाप्त हुआ इस विशाल साम्राज्य में एकतंत्रत्मक शासन व्यवस्था की स्थापना की गई।

नंद शासन का महत्त्व
नंद राजाओं का शासन काल भारतीय इतिहास के प्रश्न में अपना एक अलग महत्व रखता है। यह भारत के सामाजिक राजनीतिक आंदोलन का एक महत्वपूर्ण पहलू है। सामाजिक दृष्टि से इसे निम्न वर्ग के उत्कर्ष का प्रतीक माना जा सकता है। उसका राजनीतिक महत्व इस तथ्य में निहित है किस वंश के राजाओं ने उत्तर भारत में सर्वप्रथम एकछत्र शासन की स्थापना की। उन्होंने एक ऐसी सेना तैयार कि जिसका उपयोग परवर्ती मगध राजाओं ने विदेशी आक्रमणकारियों को रोकने तथा भारतीय सीमा में अपने राज्य का विस्तार करने में किया। नंद राजाओं के समय में मगध राजनीतिक दृष्टि से अत्यंत शक्तिशाली तथा आर्थिक दृष्टि से अत्यंत समृद्धशाली साम्राज्य बन गया था। नंदो की अतुल संपत्ति को देखते हुए यह अनुमान करना स्वाभाविक है, कि हिमालय पार के देशों के साथ उनका व्यापारिक संबंध था साइबेरिया की ओर से भी स्वर्ण मंगाते थे, पता चलता है कि भारत का एक शक्तिशाली राजा पश्चिमी एशियाई देशों के झगड़ों की मध्यस्थता करने की इच्छा रखता था। इस शासक को अत्यंत धनी व्यक्ति कहा गया है जिसका संकेत नंद वंश के सम्राट धनानंद की ओर ही है सातवीं शती के चीनी यात्री ह्वेनसांग ने भी नंदों के अतुल संपत्ति की कहानी सुनी थी उनके अनुसार पाटलिपुत्र में पांच स्तूप थे जो नंद राजा के साथ वह अमूल्य पदार्थ द्वारा संचित कोषागारो का प्रतिनिधित्व करते थे।
मगध की आर्थिक समृद्धि ने राजधानी पाटलिपुत्र को शिक्षा एवं साहित्य का प्रमुख केंद्र बना दिया। व्याकरण आचार्य पाणिनि महापदम नंद के मित्र थे। और उन्होंने पाटलिपुत्र में ही रहकर शिक्षा पाई थी वर्ष, उपवर्ष,कात्यायन जैसे विद्वान भी नंद काल में ही उत्पन्न हुए थे।
इस प्रकार नंद राजाओं के काल में मगध साम्राज्य राजनीतिक तथा सांस्कृतिक दोनों ही दृष्टि से प्रगति के पथ पर अग्रसर हुआ।

Leave a Comment