नन्दा देवी पर्वतारोहण

इस हिमशिखर के मार्ग में आने वाले पहाड़ काफी तिरछे हैं। ऑक्सीजन की कमी के कारण खड़ी चढ़ाई पर आगे बढ़ना एक दुष्कर कार्य है। यही कारण है कि इस शिखर पर जाने के इच्छुक पर्वतारोहियों को 1934 तक इस शिखर पर जाने का सही मार्ग नहीं मिल पाया था। इसका मार्ग ब्रिटिश अन्वेषकों द्वारा खोजा गया था।
1936 में ब्रिटिश-अमेरिकी अभियान को नन्दादेवी शिखर तक पहुंचने में सफलता मिली। इनमें नोयल ऑडेल तथा बिल तिलमेन शिखर को छूने वाले पहले व्यक्ति थे, जबकि नन्दादेवी ईस्ट पर पहली सफलता 1939 में पोलेंड की टीम को मिली।
नन्दादेवी पर दूसरा सफल अभियान इसके 30 वर्ष बाद 1964 में हुआ था। इस अभियान में एन. कुमार के नेतृत्व में भारतीय टीम शिखर तक पहुंचने में सफल हुई। इसके मार्ग में कई खतरनाक दर्रे और हिमनद आते हैं।
नन्दादेवी के दोनों शिखर एक ही अभियान में छूने का गौरव भारत-जापान के संयुक्त अभियान को 1976 में मिला था।
1980 में भारतीय सेना के जवानों का एक अभियान असफल रहा था।
1981 में पहली बार रेखा शर्मा, हर्षवंति बिष्ट तथा चंद्रप्रभा ऐतवाल नामक तीन महिलाओं वाली टीम ने भी सफलता पायी।
नन्दादेवी के दोनों ओर ग्लेशियर यानी हिमनद हैं। इन हिमनदों की बर्फ पिघलकर एक नदी का रूप ले लेती है।

पिंडारगंगा नाम की यह नदी आगे चलकर गंगा की सहायक नदी अलकनन्दा में मिलती है। उत्तराखंड के लोग नन्दादेवी को अपनी अधिष्ठात्री देवी मानते है। यहां की लोककथाओं में नन्दादेवी को हिमालय की पुत्री कहा जाता है। नन्दादेवी शिखर के साये मे स्थित रूपकुंड तक प्रत्येक 12 वर्ष में कठिन नन्दादेवी राजजात यात्रा श्राद्धालुओं की आस्था का प्रतीक है। नन्दादेवी के दर्शन औली, बिनसर या कौसानी आदि पर्यटन स्थलों से भी हो जाते हैं। अविनाश शर्मा, शेरपा तेनजिंग और एडमंड हिलेरी नामक पर्वतारोहियों ने एवरेस्ट को सबसे पहले विजय करने के अलावा हिमालय पर्वतमाला की कुछ और चोटियों पर विजय प्राप्त की थी। एक साक्षात्कार के दौरान शेरपा तेनजिंग कहा था कि एवरेस्ट की तुलना में नन्दादेवी शिखर पर चढ़ना ज्यादा कठिन है।

Leave a Comment