आंशिक रूप से घिरे सागर में लवणता का वितरण

आंशिक रूप से घिरे सागर में लवणता का वितरण स्थानिक परिस्थितियों पर निर्भर करता है. भूमध्य सागर में लवणता का वितरण काफी भिन्न पाया जाता है. इसके उत्तर पूर्वी भाग में लवणता 39 प्रति हजार एवं दक्षिण पूर्व में 41 प्रतिशत पाई जाती है. लाल सागर के उत्तरी भाग में 41 प्रति हजार एवं दक्षिणी भाग में 36 प्रति हजार लवणता की मात्रा मिलती है. फारस की खाड़ी में लवणता की मात्रा 48 प्रति हजार पाई जाती है.
वर्षा का अभाव, स्वच्छ जल की कम आपूर्ति, वास्पीकरण की अधिकता,उच्च तापमान आदि कारणों से यह लवणता अधिक रहती है.
नदियों द्वारा प्रचुर स्वच्छ जल की आपूर्ति,हिम से पिघले जल की आपूर्ति, निम्न तापमान,निम्न वास्पीकरण दर आदि कारणों से काला सागर में लवणता की मात्रा 18 प्रति हजार, बाल्टिक सागर में 15 प्रति हजार और फिनलैंड की खाड़ी में केवल 2 प्रति हजार ही पाई जाती है.
आंतरिक सागरो में लवणता का वितरण
आंतरिक सागर एवं झील पूर्णतया स्थल से घिरे रहते हैं. अत्यधिक गर्म एवं शुष्क पवने, वर्षा का अभाव,उच्च तापमान व वाष्पीकरण कि अधिकता के कारण मृत सागर में लवणता की मात्रा 238 प्रति हजार पाई जाती है. कैस्पियन सागर के दक्षिणी भाग में लवणता की मात्रा 170 प्रति हजार एवं उत्तरी भाग में केवल 14 प्रति हजार पाई जाती है. कैस्पियन सागर के उत्तरी भाग में युराल, वोल्गा आदि नदियां स्वच्छ जल की आपूर्ति करती है. विश्व में सर्वाधिक लवणता टर्की कि वॉन झील में 330 प्रति हजार मिलती है.
महासागरीय जल में लवणता का ऊध्र्वाधर वितरण
गहराई की ओर लवणता की वितरण में कोई निश्चित प्रवृत्ति देखने को नहीं मिलती. फिर भी लवणता की गहराई के साथ परिवर्तन की कुछ प्रवृतियों उभरकर आती है. 1. ध्रुवीय क्षेत्रों में सतह पर लवणता कम तथा गहराई की ओर बढ़ती है. हिम के पिघले स्वच्छ जल की आपूर्ति होते रहने से लवणता सतह पर कम रहती है.

  1. मध्य अक्षांशो में 400 मीटर की गहराई तक लवणता बढ़ती है. ततपश्चात गहराई के साथ इसकी मात्रा कम होती जाती है. सतह पर स्वच्छ जल की आपूर्ति कम व वाष्पीकरण अधिक होने से ऐसा होता है.
  2. भूमध्यरेखीय क्षेत्रों में सतह पर लवणता कम 1000 मीटर तक वृद्धि तत्पश्चात पुनः कम होती जाती है.
    उपरोक्त प्रवर्तियाँ सामान्य है. वैसे विभिन्न महासागरों में भिन्न भिन्न प्रवर्तियाँ देखने को मिलती है. उदाहरण के लिए दक्षिणी अटलांटिक महासागर में सतही लवणता 33 प्रति हजार है. 400 मीटर गहराई पर 34.5 प्रति हजार,1200 मीटर पर 34.8 प्रति हजार. किन्तु 20° दक्षिणी अक्षांश के निकट सतह पर 37 तथा तली पर 35 प्रति हजार है. भूमध्यरेखीय भाग में सतह पर 34 एवं तली पर 35 प्रति हजार है. उत्तरी अटलांटिक महासागर में सतह पर 35.5 व तली पर 34% लवणता रहती है. आंशिक रूप से घिरे सागरों में लवणता के वितरण में काफी विभिन्नताएं मिलती है.

Leave a Comment