पवन और उनके प्रकार तथा उनकी भिन्नता

गतिशील वायु को पवन (Wind) कहते हैं। यह गति पृथ्वी की सतह के लगभग समानांतर रहती है। पृथ्वी से कुछ मीटर ऊपर तक के पवन को सतही पवन और 200 मीटर या अधिक ऊँचाई के पवन को उपरितन पवन कहते हैं।

जब किसी स्थान और ऊँचाई के पवन का निर्देश करना हो तब वहाँ के पवन की चाल और उसकी दिशा दोनों का उल्लेख होना चाहिए। पवन की दिशा का उल्लेख करने में जिस दिशा से पवन बह रहा है उसका उल्लेख दिक्सूचक के निम्नलिखित 16 संकेतों से करते हैं :

उ (N), उ उ पू (N N E), उ पू (N E), पू उ पू (E N E), पू (E), पू द पू (E S E), द पू (S E), द द पू (S S E), द (S), द द प (S S W), द प (S W), प द प (W S W), प (W), प उ प (W N W), उ प (N W) और उ उ प (N N W)।
अधिक यथार्थता (precision) से पवन की दिशा बताने के लिए यह दिशा अंशों में व्यक्त की जाती है। जब पवन दक्षिणावर्त (clockwise) दिशा में परिवर्तित होता है (जैसे उ से उ पू और पू), तब ऐसे परिवर्तन को पवन का दक्षिणावर्तन और वामावर्त दिशा में परिवर्तन (जैसे उ से उप और प) का विपरीत पवन कहते हैं।

पवन की दिशा बताने वाला यन्त्र

वेधशाला में पवनदिक्सूचक नामक उपकरण हवा की दिशा बताता है। इसका नुकीला सिरा हमेशा उधर रहता है जिधर से हवा आ रही होती है। पवन का वेग मील प्रति घंटे, या मीटर प्रति सेकंड, में व्यक्त किया जाता है। सतह के पवन को मापने के लिए प्राय: प्याले के आकार का पवनमापी काम में आता है। पवनवेग का लगातार अभिलेख करने के लिए अनेक उपकरण काम में आते हैं, जिनमें दाबनली एवं पवनलेखक (Anemograph) महत्वपूर्ण एवं प्रचलित हैं। भिन्नःभिन्न ऊँचाई के उपरितन पवन का निर्धारण करने के लिए हाइड्रोजन से भरा गुब्बारा उड़ाया जाता है और ऊपर उठते हुए तथा पवनहित बैलून की ऊँचाई और दिगंश (azimuth) ज्ञात करने के लिए इसका निरीक्षण सामान्य थियोडोलाइट (theodolite) या रेडियो थियोडोलाइट से करते हैं और तब बैलून की उड़ान का प्रक्षेपपथ (trajectory) तैयार किया जाता है और प्राय: बैलून के ऊपर उठने के वेग की दर की कल्पना करके, प्रक्षेपपथ के विभिन्न बिंदुओं से बैलून की संगत ऊँचाई की गणना की जाती है। प्रक्षेपपथ से, इच्छित ऊँचाई पर, पवन की चाल और दिशा ज्ञात की जाती है।

पवन वेग दर्शी

बोफर्ट का पवन मापक्रम

बोफर्ट मापक्रम (Beaufort scale) पवनवेग और समुद्र तथा स्थल की दशाओं के बीच सम्बन्ध बताने वाला एक आनुभविक (इम्पिरिकल) तालिका है। इसका पूरा नाम ‘बोफर्ट पवनवेग मापक्रम है। यह मापक्रम 1805 में फ्रांसिस बोफर्ट द्वारा सुझाया गया था। वे जो आयरिश रॉयल नेवी में अफसर थे।

कॉरिऑलिस प्रभाव

पृथ्वी के घूर्णन के कारण पवनें अपनी मूल दिशा में विक्षेपित हो जाती हैं। इसे कॉरिऑलिस बल कहते हैं। इसका नाम फ्रांसीसी वैज्ञानिक के नाम पर पड़ा है। इन्होने सबसे पहले इस बल के प्रभाव का वर्णन 1835 में किया था।

पवनों के प्रकार

1.स्थाई पवने
2.मौसमी पवन और दैनिक पवन
3.स्थानीय पवन
4.जेट वायु धारा

1.स्थाई पवन

इस प्रकार की पवनों को वायुमंडल का प्राथमिक परिसंचरण भी कहा जाता है। यह आधारभूत पवने होती हैं। स्थाई पवनो को प्रचलित पवने भी कहा जाता है। यह क्षैतिज रूप से प्रवाहित होती है।स्थाई पवने पृथ्वी की घूर्णन गति के प्रभाव से विकसित हो जाती हैं। इन पवनों का विकास अस्थाई वायुदाब बेटियों में उच्च वायुदाब से निम्न वायुदाब की दिशा में होता है।
स्थाई पवनों के प्रकार
a..व्यापारिक पवन
b.पछुआ पवन
c.ध्रुवीय पवन

a.व्यापारिक पवन

दक्षिणी अक्षांश के उपोष्ण उच्च वायुदाब कटिबंध से भूमध्यरेखीय निम्न वायुदाब कटिबंध की ओर दोनों गोलाद्धों में वर्षभर प्रवाहित होने वाली पवन को व्यापारिक पवन कहते हैं। ये पवने वर्ष भर एक ही दिशा में लगातार बहती रहती हैं। इस प्रकार की पवने फेरल के नियम के अनुसार उत्तरी गोलाद्ध में अपनी दाएं और और दक्षिणी गोलाद्धों में अपनी बाई और प्रवाहित होती हैं।व्यापारिक पवनों को पुरवाई पवन ‘भी कहा जाता है। प्राचीन काल में इन पवनो से व्यापारियों को बहुत लाभ मिलता था। उनके पालयुक्त पानी के जहाज को चलाने में काफी मदद मिलती थी। इस वजह से इस प्रकार की पवनों को व्यापारिक पवन कहा जाता है।

b.पछुआ पवन

इस प्रकार की पवने पश्चिम दिशा से चलती हैं। यह व्यापारिक पवनों के विपरीत दिशा में पश्चिम से पूरब की दिशा में चलती हैं। उत्तरी गोलार्द्ध में इसकी दिशा दक्षिण पश्चिम से उत्तर पूर्व की ओर और दक्षिणी गोलार्द्ध में उत्तर पश्चिम से दक्षिण पूर्व की ओर होती है। यह दोनों गोलाद्धों में उपोष्ण उच्च वायुदाब (30 डिग्री से 35 डिग्री) कटिबंधों से उपध्रुवीय निम्न वायुदाब (60 डिग्री से 65 डिग्री) कटिबंधों की ओर चलने वाली स्थाई पवन है। पछुवा पवनों का सबसे अच्छा विकास 40 डिग्री से 65 डिग्री दक्षिणी अक्षांश के मध्य पाया जाता है क्योंकि यहां पर जल अधिक मात्रा में पाया जाता है।इस वजह से पछुआ पवनें तेज और निश्चित दिशा में बहती हैं। दक्षिण गोलार्द्ध में इनकी प्रचंडता के कारण 40 से 50 डिग्री दक्षिणी अक्षांश के बीच इन्हें “चीखती चालीस”, 50 डिग्री दक्षिणी अक्षांश के समीपवर्ती इलाकों में “प्रचंड पचासा” और 60 डिग्री दक्षिणी अक्षांश के पास “चीखता साठा” नाम से जाना जाता है।

चेरी का पेड़ 22 मीटर / सेकंड (लगभग 49 मील प्रति घंटे) की हवा के साथ बह रहा है

c.ध्रुवीय पवन

यह पवने बहुत ठंडी होती हैं। इनका जन्म ध्रुवीय उच्च वायुदाब से होता है। ध्रुवीय पवने व्यापारिक पवनों की दिशा में बहती हैं। यह उत्तरी गोलार्द्ध में उत्तर दक्षिण से दक्षिण पश्चिम और दक्षिण गोलार्द्ध में दक्षिण पूर्व से उत्तर पश्चिम की ओर प्रवावित होती हैं।ध्रुवीय पवनो के कारण सभी महाद्वीपों के पूर्वी तटीय भाग पर वर्षा होती है। ध्रुवीय पवन जब गर्म पछुआ पवनें से मिलती है तो ध्रुवीय वाताग्र का निर्माण होता है। इससे शीतोष्ण चक्रवात की उत्पत्ति होती है।

2.मौसमी पवन एवं दैनिक पवन

इस प्रकार की पवने ग्रीष्म, शीत, वर्षा ऋतु जैसी विशेष ऋतु में उत्पन्न होती हैं। मौसम बदलने पर इस प्रकार की पवने समाप्त हो जाती हैं। इनका क्षेत्र सीमित होता है।दिन और रात के तापमान में अंतर के कारण मौसमी पवनों का जन्म होता है। दैनिक पवने एक प्रकार की मौसम पवन ही हैं। इनकी उत्पत्ति भी दिन और रात के तापमान में अंतर के कारण होती है।दैनिक पवने दो प्रकार की होती हैं- समुद्री एवं स्थलीय समीर और घाटी एवं पर्वतीय समीर। समुद्री एवं स्थलीय समीर समुद्र तटीय क्षेत्रों में दिन और रात में प्रवाहित होती हैं, जबकि घाटी और पर्वतीय समीर पर्वतीय क्षेत्रों में पहाड़ों के ऊपरी भाग में बहती है।

3.स्थानीय पवन

स्थानीय पवन की उत्पत्ति एक स्थानीय स्तर पर तापमान और वायुदाब में परिवर्तन होने के कारण होती है। यह वायुमंडल की विशिष्ट परिसंचरण प्रणाली है। चिनूक, फोन, सिराको, ब्लीजार्ड, बोरा, मिस्ट्रेल कुछ प्रमुख स्थानीय पवने हैं, जो परिसंचरण प्रणाली के रूप में उत्पन्न होती हैं।स्थानीय पवन की उत्पत्ति एक स्थानीय स्तर पर तापमान और वायुदाब में परिवर्तन होने के कारण होती है। यह वायुमंडल की विशिष्ट परिसंचरण प्रणाली है। चिनूक, फोन, सिराको, ब्लीजार्ड, बोरा, मिस्ट्रेल कुछ प्रमुख स्थानीय पवने हैं, जो परिसंचरण प्रणाली के रूप में उत्पन्न होती हैं।

4.जेट वायुधारा

जेट वायुधारा पृथ्वी के वायुमंडल में क्षोभमंडल में तीव्र गति से बहने वाली पवने होती हैं जो पश्चिम से पूरब दिशा में बहती हैं। जेट वायुधारा को जेट स्ट्रीम भी कहते हैं। यह तीन प्रकार की होती है- ध्रुवीय जेट स्ट्रीम, उपोष्ण पछुआ जेट स्ट्रीम और ऊष्ण पूर्वी जेट स्ट्रीम। इस तरह की पवने पृथ्वी के धरातल से 6 से 14 किलोमीटर की ऊंचाई पर लहरदार रूप में चलती हैं। जेट स्ट्रीम की सामान्य गति 340 से 380 किलोमीटर प्रति घंटा होती है।

पवन के कारण और इनकी विभिन्नता

सौर विकिरण के प्रभाव से पृथ्वी और वायुमंडल असमान रूप से गरम होते हैं, जिससे पवन के रूप में वायुमंडलीय गति के लिए आवश्यक ऊर्जा प्राप्त होती है। परिणामी दाबप्रवणता (gradient) के कारण हवा के कण अधिक दबाव से कम दबाव की ओर जाने की प्रवृत्त होते हैं। अत: दाबप्रवणता की अधिकता हवा को प्रबल करती है।

पृथ्वी के घूर्णन के कारण चलती हवा पर आभावी विचालक बल, जिसे कोरियोलिस (corioles) बल कहते हैं, कार्य करता है। यह दूसरा महत्वपूर्ण कारक है। f अक्षांश पर कोरियोलिस बल 2 m v w sin (f) से व्यक्त किया जाता है, जहाँ v वायुकरण का वेग, m वायुकरण की संहति और w धरती के घूर्णन का कोणीय वेग है। यह बल स्पष्ट कारणों से उत्तरी गोलार्ध में वायुकणों को दाईं ओर और दक्षिणी गोलार्ध में बाईं ओर विचलित करता है। इस बल का मान ध्रुवों पर अधिकतम और विषुवत् रेखा पर शून्य होता है।

पवन को प्रभावित करने वाला तीसरा कारक अपकेंद्रीबल है, जो चक्रवातों और प्रतिचक्रवातों से उत्पन्न होता है।

समय एवं स्थान के अनुसार दाब, ताप, आर्द्रता तथा घनत्व वितरण में परिवर्तन, ऊँचाई के अनुसार विचालक बलों में अंतर, चक्रवात तथा प्रतिचक्रवात जैसी परिवर्तनशील दबाव पद्धतियों से होने वाले अपकेंद्री बलों में अंतर एवं घर्षण बलों में परिवर्तन आदि कारणों से पवन में अंतर हो जाता है।
पृथ्वी के वायुमंडल में वास्तविक परिसंचरण, जिससे पवन की संरचना निर्धारित होती है-
(1) प्राथमिक परिसंचरण,
(2) अनेक गौण परिसंचरण (जैसे मानसून, स्थल और समुद्री समीर, पर्वतीय तथा घाटी पवन जो स्थानीय होते हैं) और
(3) अवनमन (depression) एवं चक्रवात सदृश चलते फिरते विक्षोभ (disturbances) से होने वाले परिसंचरण तथा आँधी, पानी एवं झक्कड़ आदि अल्पकालिक विक्षोभों से निर्धारित होता है।
इनमें से हर स्थिति के अपने लक्षण हैं, जिनसे पवन का वह स्वरूप निर्धारित होता है। पवन केे प्रकार- ये तीन प्रकार केे होते है – 1- प्राचलित पवने 2- मौसमी या सामयिक पवने 3- स्थानिय पवने .

Leave a Comment